speech on independence day in hindi । स्वतंत्रता दिवस पर हिन्दी में भाषण

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण

मेरे सभी आदरणीय अध्यापकों, अभिभावक, और प्यारे मित्रों को सुबह का नमस्कार। इस महान राष्ट्रीय अवसर को मनाने के लिये आज हमलोग यहाँ इकठ्ठा हुए है। सर्वप्रथम आज 73 वे स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हमें गर्व होता है हमारे उन वीर शहीदों पर जिनके कारण हम इन खुली हवा में सांस ले पा रहे हैं हम शीश झुकाते हैं उन शहीदों के सामने जिन्होंने अपने प्राण न्योछावर कर हमें यह आजादी दिलाई। साथियों आजादी सभी जीवो को प्रिय होती है चाहे वह मानव हो या कोई पशु पक्षी या जीव जंतु सभी स्वतंत्र रहकर खुश रह सकते हैं महर्षि दयानंद जी का एक कथन है कि विदेशियों का राज्य कितना ही अच्छा हो लेकिन स्वदेश के लिए हानिकारक होता है।

इस भाषण का वीडियो देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करेंhttps://youtu.be/BMWG6jUPNf8

लेकिन साथियों हमारी इस आजादी के लिए लाखों वीर शहीदों का बलिदान हमारे लिए एक प्रेरणा है जिन्होंने 2000 वर्षों तक हमें गुलाम रखने वाली ब्रिटिश सरकार की जड़ों को अपनी वीरता साहस व अखंड एकता से उखाड़ फेंका वह 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हिंदुस्तान का सपना साकार कर दिखाया। इस दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री श्री पंडित जवाहरलाल नेहरु ने लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराकर राष्ट्र को संबोधित किया था साथियों यह आजादी हमें उपहार में नहीं मिली है इस आजादी के लिए वंदे मातरम और इंकलाब जिंदाबाद की गर्जना करते हुए अनेक वीर देशभक्त फांसी के फंदे पर झूल गए। 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग हत्याकांड से लहूलुहान वह भूमि आज भी उन देशभक्त नर-नारियों के बलिदान की गवाही दे रही है लेकिन साथियों आजादी अपने साथ कई नई जिम्मेदारियां भी लाई है हम सभी को जिसका इमानदारी से निर्वाह करना चाहिए लेकिन क्या आज हम इतने वर्षों के बाद भी आजादी की सच्चाई को समझकर उसका सम्मान कर रहे हैं आलम तो यह है कि अगर स्कूलों का सरकारी दफ्तरों में 15 अगस्त ने मनाया जाए तो शायद हम लोगों को यह भी मालूम ना रहे। की स्वतंत्रता दिवस हमारा राष्ट्रीय पर्व है। जो कि हमारी जिंदगी के सबसे अहम दिनों में से एक है। इस डिजिटल क्रांति के युग में सिर्फ Facebook Twitter WhatsApp व अन्य सोशल मीडिया पर देशभक्ति का गुणगान कर देश भक्त बन जाना ही नहीं है। हमें देश को आगे बढ़ाने में अपना योगदान देना चाहिए

जय हिन्द जय भारत वंदेमातरम

इस भाषण का वीडियो देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें https://youtu.be/BMWG6jUPNf8

The Author

लेखक:- सविता रामभरोसे

नमस्कार वेबसाइट बाल संसार हिंदी में आपका स्वागत है।सविता जी जिन्होंने हिंदी विषय से  स्नातकोत्तर व बीएड की डिग्री अर्जित की है।श्री रामभरोसे जी ऐसे हैं। भई रामभरोसे 1998 में किसी तरह दसवीं कर पाये ,2006 में 12वीं कर आये, 2012 में स्नातक कर पाये, 2014 में अंग्रेजी साहित्य से स्नातकोत्तर की डिग्री ले आये। आर्टिकल में सब लिखने के बाद सविता जी से चेक करवाये बाल संसार हिंदी के वेब डेवलपर कंटेंट राइटर लेखक सभी की भूमिका यह अकेले ही निभाये। बस इतना ही है। कि आप इनके नाम से परिचित हो जाएं रामभरोसे समझकर इनका साथ निभाएं धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *