दिवाली पर कविता

देखो बच्चों दिवाली है आई।
बाजारों में रौनक है छाई।
देखो बच्चों दिवाली है आई।
गरीब रामू काका की बेटी मुन्नी चली आई।
मां ने नई ड्रेस दिलाई।
मुन्नी ड्रेस देख बहुत हर्षायी
देखो बच्चों दिवाली है आई
दिये ले कुम्हारीन ताई चली आई
दिवाली पर मिट्टी के दीए ले लो मेरे भाई
रामु काका ने कुम्हारीन ताई समझायी
तुम्हारे मिट्टी के दिए नहीं बिकेंगे ताई
लोगों के दिल में चाइनीज फुलझड़ियां हैं समाई
ताई गरमाई स्वदेशी की सरकार की नीति सुनाई
बोली स्वदेशी अपनाओ मेरे भाई
काका बोले सुन रे कुम्हारीन ताई
आज के दिन जिस ने स्वदेशी की नीति सुनाई
उसी के महलों में चाइनीज फुलझड़ियां है जगमगाई
तू इतनी भोली कहां से चली आई
सफेद पोशो ने तो सिर्फ स्वदेशी की अफवाह है फैलाई
कुम्हारिन ताई रोइ और घबरायी
तो क्या मेरे मिट्टी के दिये नहीं बिकेंगे भाई
मेरे बच्चों के चेहरे पर मायूसी है छाई
इन चाइनीज दिये फुलझड़ीयो ने छीन ली मेरी पाई पाई
देखो बच्चों दिवाली है आई बाजारों में है रोनक छाई

वीडियो देखें:-https://youtu.be/DbgIqfQt9-0

फोटो पर क्लिक करें

दिवाली कविता 2

दिवाली के दिन वनवास से वापस आए राजा राम
भारतवर्ष की जनता ने दिया इसे प्रकाश पर्व का नाम
बुराइयों को दूर भगा पाया जिन्होंने मर्यादा पुरुषोत्तम नाम
लेकिन आज दिवाली को हम हैं भूले मर्यादा पुरुषोत्तम के काम
दीवाली पर्व का नाम ले हम छलका रहे हैं। जाम
चारों तरफ है। दिखावे की चकाचौंध का काम।
अमीर एक तरफ लगा रहा है। छप्पन भोग
वहीं गरीब के घर में नहींं है। दिवाली को सूखी रोटी का योग
वहींं राम राज्य मैं सभी थे एक समान चारों तरफ जनता में भाईचारा और सम्मान
लेकिन लेकिन अब तो गरीब अमीर में इतना अंतर जैसे जमीन और आसमान चोर उचक्के दुराचारी रहते सीना तान कालाबाजारी मिलावट खोर काटते सबके कान मिलावटी मिठाइयां खा कर जा रही लाखों लोगों की जान।
और हम इतनी बुराइयां कर बचा रहे मर्यादा पुरुषोत्तम की आन। क्या ऐसे ही बची रहेगी मर्यादा पुरुषोत्तम कि शान।

वीडियो देखें:-https://youtu.be/8IqH4q36Cfc

फोटो पर क्लिक करें




The Author

लेखक:- सविता रामभरोसे

नमस्कार वेबसाइट बाल संसार हिंदी में आपका स्वागत है।सविता जी जिन्होंने हिंदी विषय से  स्नातकोत्तर व बीएड की डिग्री अर्जित की है।श्री रामभरोसे जी ऐसे हैं। भई रामभरोसे 1998 में किसी तरह दसवीं कर पाये ,2006 में 12वीं कर आये, 2012 में स्नातक कर पाये, 2014 में अंग्रेजी साहित्य से स्नातकोत्तर की डिग्री ले आये। आर्टिकल में सब लिखने के बाद सविता जी से चेक करवाये बाल संसार हिंदी के वेब डेवलपर कंटेंट राइटर लेखक सभी की भूमिका यह अकेले ही निभाये। बस इतना ही है। कि आप इनके नाम से परिचित हो जाएं रामभरोसे समझकर इनका साथ निभाएं धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *