प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जानने योग्य पांच महत्वपूर्ण बातें

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जानने योग्य पांच महत्वपूर्ण बातें।

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी जी ने झारखंड से 23 सितंबर 2018 को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की घोषणा की यह योजना 29 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के 445 जिलो में लागू होगी। इसमें 10 करोड परिवारों के करीब 50 करोड़ लोगों का सालाना ₹5 लाख खर्च तक का इलाज मुफ्त किया जाएगा। आइए जानते हैं इस योजना की पांच मुख्य बातें।

1. इस योजना के लिए पात्रता का आधार क्या है?

2011 की जातिगत सामाजिक व आर्थिक आधार पर की गई जनगणना में गरीब के रूप में चिन्हित किए गए परिवार इस योजना के लाभार्थी होंगे। वहीं इसके लिए उम्र की कोई सीमा नहीं होगी।

2. इस योजना में अपनी पात्रता कैसे जाने?

पात्रता जाने के लिए नेशनल हेल्थ एजेंसी की वेबसाइट:-mera.pmjay.gov.in,या www.abnhpm.gov.in पर विजिट कर लाभार्थियों की लिस्ट में अपना नाम देख सकते हैं। या हेल्पलाइन नंबर14555 पर फोन करके जानकारी ले सकते हैं।

3. इलाज किन अस्पतालों में होगा सरकारी या प्राइवेट?

इसके लिए बड़ी तादाद में सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों ने इससे जुड़ने की इच्छा जताई है। मतलब इस योजना का लाभ प्राइवेट और सरकारी दोनों ही अस्पतालों में मिलेगा। इसमें इलाज के कुल 1354 पैकेज हैं। जिनमें कैंसर सर्जरी, कीमो थेरेपी,रेडिएशन थेरेपी हार्ट बाईपास सर्जरी, न्यूरो सर्जरी, रीड की सर्जरी, दांतो की सर्जरी, आंखों की सर्जरी, और एमआरआई व सिटी स्कैन जैसी जांचे शामिल हैं।

4. इस योजना का लाभ लेने के लिए अस्पताल में कहां संपर्क करना होगा?

इस योजना के पैनल में शामिल हर अस्पताल में आयुष्मान मित्र हेल्पडेस्क होगा। जहां लाभार्थी अपने दस्तावेज दिखा। अपनी पात्रता सुनिश्चित कर सकेगा। यहां इलाज के लिए लाभार्थी को कोई पैसा नहीं देना होगा। इलाज पूर्णतया मुफ्त होगा।

5.इस इलाज का खर्च राज्य सरकारें वहन करेंगी या केंद्र सरकार?

इसका खर्च 60% केंद्र सरकार वहन करेगी वह 40% भार राज्य सरकारों पर पड़ेगा।

 

Updated: August 22, 2019 — 7:01 pm

The Author

लेखक:- सविता रामभरोसे

नमस्कार वेबसाइट बाल संसार हिंदी में आपका स्वागत है।सविता जी जिन्होंने हिंदी विषय से  स्नातकोत्तर व बीएड की डिग्री अर्जित की है।श्री रामभरोसे जी ऐसे हैं। भई रामभरोसे 1998 में किसी तरह दसवीं कर पाये ,2006 में 12वीं कर आये, 2012 में स्नातक कर पाये, 2014 में अंग्रेजी साहित्य से स्नातकोत्तर की डिग्री ले आये। आर्टिकल में सब लिखने के बाद सविता जी से चेक करवाये बाल संसार हिंदी के वेब डेवलपर कंटेंट राइटर लेखक सभी की भूमिका यह अकेले ही निभाये। बस इतना ही है। कि आप इनके नाम से परिचित हो जाएं रामभरोसे समझकर इनका साथ निभाएं धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *