balsansarhindi.com

नॉलेज हिन्दी व अंग्रेजी में

जीवन का लक्ष्य

जीवन का लक्ष्य यदि पाना है ,तो सभी जीवो के गुणों को अपनाना है।

छोटे-छोटे जीवो को देखो, लक्ष्य उनसे पाना सीखो।

जैसे मकड़ी जाला बुन- बुन कर, हमें बहुत कुछ सिखाती है।

बार- बार गिरकर उठ -उठकर धीरज और प्रयास दिखाती है।

चींटी भी कितनी मर -मर कर, पंक्ति में चलती जाती है।

समय अनुसार संचय कर -कर, एकता के बल को दर्शाती है।

वैसे ही बीज भी गड़-सड़कर, त्याग और धैर्य बताता है।

एक दिन पेड़ के फल बन- बनकर ,सब को लाभ पहुंचाता है।

छोटा बच्चा भी गिर-गिरकर, उठना चलना सीखता है।

रोककर, हंसकर फिर चल-चलकर,एक दिन दौड़ने लगता है।

अतः जीवन में आगे बढ़-बढ़कर, ऊंचाइयों को जो पाते हैं।

कर्मवीर और आदर्श बन-बनकर भविष्य सुखी बनाते हैं।

The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बालसंसार हिन्दी © 2018 Frontier Theme
balsansarhindi.com